कमजोर दिल, लिवर वाले रात को दही खाने से क्यो बचे / kamjor dil aur liver wale rat ko dahi khane se kyo bache hindi

कमजोर दिल , लिवर वाले रात को दही खाने से क्यो बचे /  kamjor dil, liver Wale rat ko dahi khane se kyo bache hindi

अगर हम अपनी जीवन पध्दति को भारतीय तरीके से चलाते है तो उसमे अनेक ऐसे उपाय आर्युवेद ग्रंथ में है जिनको हम जानकर अनेक रोगों से बिना दवा के ही ठीक हो सकते है। हमारे ऋषि मुनियों ने जो हर्बल ओषधिया बनाई ओर साथ ही अनेक बीमारियों की खोज करके उनका निदान सरल प्राकृतिक तरीके से किया वह आज के समय मे किसी वरदान से कम नही है। हमारे  ऋषियों ने दवा के साथ ही साथ परहेज को बहुत ज्यादा महत्व दिया था। जिसका लाभ आज के लोग उठा रहे है। आज उनके  सिद्धांतो पर अनेक दवाइया बनाई जा रही है ओर उन पर गहन रिसर्च भी हो रही है। जो कि अतुलनीय है। 

रात को दही खाने के नुकसान

आर्युवेद में रात को दही खाना मना है। उसके अनेक कारण बताए गये है । दही की तासीर ठंडी है इसलिये हमारे ऋषियों  ने ठंडी चीजो को रात को खाने से परहेज किया है। दही को रात को खाने से जो असल समस्या जो है जिसको हमने खुद भी अनुभव किया है उसका मुख्य कारण खासकर उन लोगो के लिये जिनको दिल समन्धित समस्या हो दिल कमजोर हो  या थायराइड से पीड़ित हो उनको रात को गलतीं से भी दही नही खाना चाहिये। गर्म प्रदेश के बहुत से लोग रात को दही खाते है। एक समय हम भी रात को दही खाते थे लेकिन जब हम स्वस्थ्य थे उस समय उस बात का उतना पता हमको नही चला लेकिन जब हमको थायराइड ओर कमजोर दिल की समस्या है तब से हमने जो अनुभव प्राप्त किया उसी को आपको बतला रहा हु। थायरॉइड में दही को कम खाना है खासकर जिन लोगो को ह्यपोथैरिओड है उसका कारण यह है कि दही की तासीर ठंडी होती है यह रात को तो छोड़ो दिन में भी थायराइड वाले खाने से बहुत बार उनका थायराइड बढ़ जाता है।  उसका कारण जो अनुभव से हमने पाया है वह यह है कि दही कमजोर पाचन वालो को ओर कमजोर दिल वाले के लिये कम मात्रा में ही खाना चाहिये। दही खाने से पहले एक छोटा टुकड़ा अदरक का चबा लेते है तो यह आसान से पच जाता है ओर किसी किस्म की परेशानी भी नही होती है। यदि कमजोर दिल ओर लिवर वाले रात को दही का सेवन करते है तो उनका मोटोबोलिज्म धीमा पड़ जाता है। जिस वजह से दिल की गति धीमी पड़ जाती है ओर नींद अच्छी नही आती है ओर बार बार नींद टूटतीं है। यदि आपको कभी ऐसा होता है तो आप निम्न उपाय अजमा सकते है। आप  एक अखरोट चबा सकते है। अलसी भुनी  पानी से ले सकते है। अदरक  काली मिर्च की चाय पी सकते है। यह सब घरेलू उपाय है। जरूरत पड़ने पर डॉक्टर से मिलना न भूले।।।






Previous
Next Post »