किन लोगो के विवाह में देरी होती है जाने / Know which people's marriage gets delayed?

किन लोगो के विवाह में देरी होती है जाने

जब विवाह के लिए रिश्ता की बात चलती है तब कुछ लोगो के विवाह आसानी से हो जाते है ज्यादा खोज बिन नही करनी पड़ती है लड़का हो या लड़की जॉब में हो या नही और यहां तक कि सुंदर भी हो या नही कद काटी छोटी होने पर भी विवाह समय पर हो जाता है। यह सब ग्रहों का खेल समझो या कुछ और ये तो मैं कुछ नही कह सकता लेकिन इतना जरूर समझ चुका हु देख चुका है की यदि किस्मत अच्छी हो साधारण से देखने वाले बालक को  भी हूर की परी मिलने वाली कहावत सही निकलती है  और एक सुंदर सी कन्या को भी ऐसा वर मिलता है जिसकी उसने कभी कल्पना नही की हो। यहां पर ग्रहों नक्षत्रों की बात तो नही करूंगा लेकिन जो हकीकत है उसी को बयान करूगा । एक लड़के या लड़की की शादी  तब देरी से होती है जब हम मनमुताबिक वर खोज रहे हो। मनमुताबिक वर खोजना भी चाहिए कोशिश सभी की यही होती है लेकिन किस्मत को किसी ने नहीं पढ़ा है होना तो वही है जो ऊपर वाले ने लिखा है ।  ये जो मन मुताबिक वर की खोज हम कर रहे होते है उसमे अनेक बार सफलता मिलती है और बहुत बार सफलता मिलती नही है । इसी मनमुताबिक बालक या बालिका की खोज के चक्कर में हम अपने बच्चो की उम्र कब 32से  35 तक पहुंच जाती है  और कुछ तो 40पार कर जाते है जब लोग उनसे पूछते है तो तो कुछ समय तो बहाना काम चल जाता है उसके बाद तो वह भी नही चल पाता है क्योंकि उनसे उन्नीस जो बच्चे होते है उनका भी विवाह हो चुका होता है और वो अपने डिमांड को पकड़ कर ही बैठते है उन्हे तब खुद भी पता नही चलता है की वे अब अधेड़ हो चुके है कही अगर रिश्ते की बात भी चलानी होती है तब काफी सोचना होता है इसी  तरह एक दूसरे लोग भी होते है जो अपनी नोकरी या पेकेज  या जाति की वजह से रिश्ता तलाश करने में असफल रहते है उनका कोई दोष नही है सरकार की जिस तरह की नीतियां है  जिनमे खासकर महिलाओं को नोकरी में आरक्षण है तो पुरुषो को नही तो उच्च जाति के पुरुष पिछड़ जाते है अब जब उच्च जाति के।पुरुष जॉब में पिछड़ रहे है तो उच्च ब्राह्मण कन्याओं को हाई पेमेंट वाला वर मिलना आसान खेल नही ऊपर से कुंडली तो जरूरी है  देखिए किस्मत का खेल । आखिर एक दिन कुछ लोगो को अपना दिल मारकर  उन  लोगो से विवाह को राजी होना होता है जहां  उन्होंने सोचा नहीं क्योंकि तब तक बहुत देरी हो चुकी होती है तब न  तो पेकेज मिलेगा और न ही मन मुताबिक रिश्ता क्योंकि जो अच्छे वर या कन्या  तब तक रिजर्व हो चुके होते है । यही कारण है की सर्वगुण संपन्न लड़कियों और लड़के भी  आज के समय में विवाह के बंधन में बंधने नही पा रहे है। बहुत से लड़कियों के पैरेंट्स चाहते है की लड़का उनके मुताबिक ही मिले तो उसके लिए तो इंतजार के सिवा कुछ नहीं हो सकता जब तक नही मिलता तब तक देखते रहे ।लोग यही सोचते है दुनिया को जो  बकना है  बकने दो हमे फर्क नही पड़ता है  हमे करना  वही है जो हमने सोचा है  अधिकतर का यही सोचना होता है इसलिए विवाह में देरी तो होगी ही। सर्वगुण संपन्न बालक बालिका  विवाह के मामले में पिछड़ जाते है जो उनके स्तर में वर्तमान में नही है  या कहे तो उनसे उन्नीस है  उनका भी विवाह हो चुका होता है।।दुःख  भी होता है  सर्वगुण संपन्न लेकिन विवाह नही हो रहा है यह बालक बालिका दोनो पर लागू है। लोगो को आखिर करना क्या चाहिए दूसरो की सीख कोई लेने को तैयार नहीं इसीलिए अपनी आत्मा से ही इसका जवाब तलाश कीजिए की आखिर पैमाना क्या हो। उच्च शिक्षा के साथ जॉब या कोई बड़ा व्यापार या कुछ और उत्तर तो आपको खुद ही खोजना होगा दूसरा आपकी मदद  करने आएगा नहीं अगर कोई सुझाव देगा तो आप मानेंगे नही। ब्राह्मण समाज की समस्या को लेकर विवाह से समंधित ब्लॉक अच्छे लगे तो अपने लोगो को शेयर भी करे। 


















Previous
Next Post »